Due to the COVID 19 epidemic, orders may be processed with a slight delay

Search

In Stock

Sahitya Ka Aatm-Satya by Nirmal Verma

Original price was: ₹195.00.Current price is: ₹150.00.

Clear
Compare
SKU:N/A
हिन्दी के अग्रणी रचनाकार के साथ-साथ देश के समकालीन श्रेष्ठ बुद्धिजीवियों में गिने जानेवाले निर्मल वर्मा ने जहाँ हिन्दी को एक नयी कथाभाषा दी है वहीं एक नवीन चिन्तन भाषा के विकास में भी महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा की है। उनका साहित्य और चिन्तन न केवल उत्तर-औपनिवेशिक समाज में कुछ बहुत मौलिक प्रश्न और चिन्ताएँ उठाता है, बल्कि एक लेखक की गहरी बौद्धिक और आध्यामिक विकलता को भी व्यक्त करता है। अपने पाठकों को भारतीय परम्परा और पश्चिम की चुनौतियों के द्वन्द्व की नयी समझ भी देता है। इतिहास और स्मृति निर्मल वर्मा के प्रिय प्रत्यय हैं। उनके चिन्तन में इतिहास के ठोस और विशिष्ट अनुभव हैं। वे सवाल उठाते हैं कि यदि हम वैचारिक रूप से स्वयं अपनी भाषा में सोचने, सृजन करने की सामर्थ्य नहीं जुटा पाते तो हमारी राजनैतिक स्वतन्त्रता का क्या मूल्य रह जाएगा? निर्मलजी के निबन्धों के चिन्तन के केन्द्र में मात्रा साहित्य ही नहीं है बल्कि, उसमें उत्तर-औपनिवेशिक भारतीय समाज, उसका नैतिक-सांस्कृतिक विघटन और मनुष्य का आध्यात्मिक मूल स्वरूप, भारतीय संस्कृति का बहुकेन्द्रित सत्य आदि महत्त्वपूर्ण सवाल समाहित हैं जो पाठकों के रचनात्मक चिन्तन को एक नया आयाम देते हैं।

Author

Binding

Paperback

Language

Hindi

Author

Nirmal Verma

Publisher

"Vani Prakashan

pages

184

Bestsellers

Journal Of Special Education (5 Journals Set) by Journals

Original price was: ₹6,500.00.Current price is: ₹5,200.00.
(0 Reviews)

Ded Idd Complete Course Set ( 11Books) by Dr.Aradhana Mataniya

Original price was: ₹5,500.00.Current price is: ₹4,400.00.
(0 Reviews)

test

Original price was: ₹100.00.Current price is: ₹99.00.

Save: 1.00 (1%)

(0 Reviews)
short

"ANIMAL FARM By. George Orwell"

Original price was: ₹120.00.Current price is: ₹105.00.
(0 Reviews)

Kavve Aur Kala Pani by Nirmal Verma

Original price was: ₹250.00.Current price is: ₹140.00.
(0 Reviews)

Back to Top
Product has been added to your cart
An error has occured.